हिंदी करेंट अफेयर्स: (27 मार्च 2018) – (Hindi GK)

धरती से टकराएगा बेकाबू तियांग्गोंग–1

जहरीले रसायनों वाला चीन का स्पेसक्राफ्ट तियांग्गोंग -1 बेकाबू हो चुका है।इस के 30 मार्च से 6 अप्रैल 2018 के बीच धरती से टकराने की आशंका है। इसके 43डिग्री उत्तरी दक्षिणी अक्षांश यानी घनी आबादी वाले न्यूयॉर्क,बार्सिलोना, बीजिंग,शिकागी, इस्ताबुल,रोम और टोरेंटो पर गिरने की आशंका है।

साढ़े आठ टन  वजन वाला यह स्पेस स्टेशन में नियंत्रण खो चुका है और तब से यह धरती पर गिर रहा है।

प्रदूषण के विरूद्ध–दिल्ली  की आम आदमी पार्टी सरकार ने वर्ष 2018–19 के अपने बजट को “ग्रीन बजट” का रूप देकर नई शुरुवात की है।यह इस बात का संकेत है कि केजरीवाल  सरकार प्रदूषण को बड़ी आर्थिक सामाजिक चुनौती मानती हैं।और इससे ठोस तरीको से निपटना चाहती है।दिल्ली का प्रदूषण आपात स्थिति के करीब है।ग्रीन बजट में दिल्ली सरकार के चार विभागों पर्यावरण , ट्रांसपोर्ट,पॉवर और पीडब्ल्यूडी से जुड़ी 26 योजनाओं पर कार्य करेगी।यह बाकी सरकारों के लिएं मिसाल है।

करोड़ों रुपए की पेयजल योजनाओं का अनुमोदन

जनता के तेवर पर चुनावी साल के मद्देनजर सरकार पेयजल योजनाओं को लेकर सक्रिय हो गई है। जलदाय विभाग ने वर्षों से अटकी करोड़ों की पेयजल योजनाओं को सोमवार को एक ही बैठक में अनुमोदित के दिया गया।इस के अन्तर्गत 73 एजेंडे शामिल कर ज़्यादातर को स्वीकृति दे दी गई हैं।

अर्थ आवर डे

विश्व वन्यजीव एवम् पर्यावरण संगठन द्वार वर्ष 2007 में सिडनी (आस्ट्रेलिया) से शुरू अभियान के तहत रात साढ़े नौ बजे (अर्थ आवर) तक इस्तेमाल में ना आने वाली बिजली उपकरण बन्द रखे जाते हैं।अभियान का उद्देश्य समूचे विश्व को पर्यावरण सुरक्षा के बारे में जागरूक करना और बिजली का महत्व बताना है।इस वर्ष 24 मार्च को अर्थ आवर डे मनाया गया।

ब्रह्मोस मिसाइल परीक्षण

पोकरण फिल्ड फायरिंग रेंज में विश्व की सबसे तेज   सटीक ब्रह्मोस मिसाइल का सफल परीक्षण हुआ।300–450 किमी तक मारक क्षमता वाली यह सुपरसोनिक मिसाइल भारत और रूस का संयुक्त उद्यम है।इसका मुख्य उपकरण “सीकर”

भारत में निर्मित है,जो मिसाइल की सटीकता  और मारक क्षमता को बढ़ाता है।

लिंगायत वीर शैव समुदाय

कर्नाटक सरकार ने जस्टिस नाग मोहन दास समिति की सिफारिशों को मानते हुए संत बसवेश्वर के दर्शन के अनुयाई लिंगायत वीर शेव समुदाय को धार्मिक अल्पसंखयक घोषित करने का प्रस्ताव केंद्र सरकार को भेजा है।अलग धर्म का दर्जा देने का अन्तिम हक केन्द्र सरकार का है।अभी मुस्लिम, सिक्ख,ईसाई,बौद्ध,,पारसी और जैन धर्म को अल्पसंख्यक दर्जा है।

Read Other post….